Kabir Singh review Hit or Flop

kabir singh review in hindi
Image by Kabir Singh youtube video

शाहिद कपूर की नयी फिल्म कबीर सिंह, विजय देवरकोंडा की अर्जुन रेड्डी की रीमेक है ये तो शायद सभी जानते होंगे, जो तेलुगु सिनेमा में सुपरहिट रही थी। फिल्म एक शॉर्ट टेम्पर्ड यानि जिसे बात बात पे गुस्सा आता हो, ऐसे डॉक्टर कबीर सिंह (शाहिद कपूर) की कहानी को दर्शाती है, जो मेडिकल कॉलेज के जूनियर (किआरा अडवानी) से प्यार करता है, कबीर की प्रेमिका के लिए उसका जुनून उसे विनाशकारी राह पर ले जाता है। क्या वह उस अंधेरी दुनिया से बाहर आ सकता है जिसे वह अपने लिए बनाता है? यही देखने लोग अपने नज़दीकी सिनेमा घर में जा रहे है! तो चलिए हम आपको बताते है अपनी राय इस फिल्म के बारे में..

Kabir singh review

एक ऐसे प्रकार का प्रेमी या बॉयफ्रेंड, जो आक्रामक, जुनूनी है और अपनी गर्लफ्रेंड के लिए किसी भी हद तक जा सकता है। दिल्ली के सबसे प्रतिष्ठित मेडिकल इंस्टिट्यूट में से एक का सीनियर और टॉपर व्यक्ति। इसके घातक गुस्से के बारे में सबको पता रहता है और ऐसे कुछ ही लोग हैं जो उनके साथ किसी तरह का पंगा लेना चाहते हैं। कबीर सिंह, एक कारण से विद्रोही बन जाता है जैसे ही वह अपने कॉलेज में पढ़ने वाली जूनियर लड़की के रूप में प्रीति (कियारा आडवाणी) को देखता है। कबीर सिंह को पहली नज़र में ही प्रीती से प्यार हो जाता है। लेकिन यह रोमांस एक नार्मल रोमांटिक प्यार से दूर दूर तक कोई वास्ता नहीं रखता। यह तुरंत कबीर के असंतुलित और आत्म-विनाशकारी लाइन को प्रकट करने का कारण देता है। इस प्रकार, कबीर के चरित्र के बारे में हमे पता चलता है जिसकी जीवन की शुरुआत प्यार का पीछा करते हुए होती है जो उसे जीवन को गहरे अंधेरे की तरफ ले जाती है।

शाहिद के प्रदर्शन से चरित्रहीनता, मादक पदार्थों की लत, शराब और नशीले पदार्थों का सेवन जैसे बहुत सी चीज़ो को दर्शाता है। कुछ लोगों के लिए, उनकी हरकतें और लापरवाही समस्याजनक लग सकती है, लेकिन जाहिर है कि उनका चरित्र का यह एक स्केच मात्र है, और शाहिद इसे पूरी ईमानदारी से निभाते हैं। शाहिद कपूर पूरी तरह से कबीर सिंह के रोल में घुसे मिले। एक ऐसा कलाकार जो कबीर के हर शेड को इतने जोश और परफेक्शन के साथ निभाते हैं, आपको फिल्म में बांधे रखता है। यह केवल शाहिद के मजबूत प्रदर्शन के कारण है कि उनके कई चरित्रों को उचित ठहराया गया है। स्क्रीन स्पेस के मामले में, कोई भी आदमी उनके करीब नहीं आता है, यहां तक ​​कि वह महिला भी नहीं है जो किआरा आडवानी की बहुत अछि दोस्त होती है।

कबीर सिंह में कुछ पल ऐसे भी है जहा दर्शको ने खुल के मज़ा लिया जैसे की उनकी एक नौकरानी गलती से एक पीने का गिलास तोड़ देती है। हमारा हीरो उसका पीछा करता है, जगह-जगह हल्ला करता है और सिगरेट उसके होठों से चिपकी रहती है। जब पूरा थियेटर इस नौकरानी की वाहवाही लूटता है, तो उसकी नौकरानी का पीछा करते हुए, उसकी पिटाई करने के इरादे से, आपको लगता है कि कबीर सिंह हिट होगी। फिल्म निर्माता संदीप रेड्डी वंगा और इसके प्रमुख अभिनेता शाहिद कपूर की एक्टिंग के सामने सबने हाथ जोड़े!

फिल्म के ज़्यादातर भाग में, किआरा चुप्पी को साढ़े हुई है और एक्टिंग के लिए केवल उन्हें चुप रहने के लिए छोड़ दिया गया है। इस तरह के सीमित दायरे के साथ, उसे वास्तव में फिल्म में अपनी जगह बनाने का मौका नहीं मिलता है। दूसरी ओर, शाहिद के भरोसेमंद दोस्त शिवा (सोहम मजुमदार) को अपने दोस्त के गलत राह पे चलने के बाद भी उसका ठोस समर्थन करने का पर्याप्त अवसर मिलता है।

शाहिद कपूर वास्तव में हमें समझाने की कोशिश कर रहे है कि कबीर सिंह एक नए ज़माने की देवदास है जिसे देखकर सबको आँसू बहाने चाहिए। लेकिन जिस आदमी को वह चित्रित करता है वह उतना भयंकर रूप से पीड़ित नहीं लगता है जितना की दुखद रोल तेलुगु फिल्म के अभिनेता ने किया है।

 

कबीर सिंह बिल्कुल अर्जुन रेड्डी की ही रीमेक फिल्म है और इस तथ्य के अलावा कुछ भी नया नहीं है कि अर्जुन रेड्डी में मैंगलोर / हैदराबाद की जगह दिखाई है और कबीर सिंह में दिल्ली और मुंबई की। कबीर सिंह को स्पष्ट रूप से फिल्म की शुरुआतके सभी सीन तेलुगु फिल्म से मिले हैं। यहां नायिका के लिए अच्छे पलो का अर्थ है हर उपलब्ध अवसर पर हीरो के साथ बिस्तर पर कूदना और फिर दोनों के बीच कई बार सेक्स सम्भन्ध स्थापित होते है शादी से पहले ही।

कबीर को शराब पीने या नशे में या कोकीन को सूंघने या मॉर्फिन में सुई लगाने या लोगों के साथ लड़ने या, अपनी प्रेमिका को थप्पड़ मारने या उस पर चिल्लाने के लिए कबीर सिंह ने 154 में 120 मिनट बिताए हैं। शेष 24 मिनट में, उसका पश्चाताप किया जाता है की उसने ऐसा क्यों किया, और हम सभी एक सुखद अंत के साथ थिएटर से बाहर निकलते है। अगर आपको लगता है कि यह फिल्म बढ़िया है, अगर आपको लगता है कि जो कबीर ने किये वह ठीक किया तो क्या फरक पड़ता है आखिरकार यह एक फिल्म ही तो है जिसे लेकर हर किसी के मन में अलग अलग विचार पैदा हुए होंगे!

यह भी पढ़े

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.